• Tue. Apr 23rd, 2024

सटायर हिन्दी

विद्रूपताओं का आईना

फादर स्टेन स्वामी

किसने किसको मार दिया
ये सोच के थम जाता क्या
दर्द महसूस जो करता तो
सत्ता तक जा पाता क्या?

बंदर बिल्लियों से सयाना है
किसको कितना पाना है
जो ये गणित भिड़ा पाता
सारा चट कर पाता क्या?

मरने के क़ाबिल था या
सत्ता के मुकाबिल था
बात ग़र एक नहीं होती तो
बूढ़ा यों मर जाता क्या?

देह वो जल कर भस्म हुई
विचार सीने से बह निकले
क़ातिल आज भी पूछ रहा
कोई गांधी बनने आता क्या?

ये चुप्पी बहुत जानलेवा है
उसको भी था मालूम मगर
जो गूँगों को बतला देता तो
लोकतंत्र बच पाता क्या?

सियासी कुरूक्षेत्र में किसे
गंगापुत्र समझ के घेरते हो
शिखंडी पाला बदल गये
नहीं समझ में आता क्या?

बोलेगा जो भी वही मरेगा
निरंकुशता ये कहती है
ख़ामोशी से ज़म्हूरियत का
नाम न बदला जाता क्या?

हमने जिन्हें था चुन लिया
अब वो ही हमको चुन देंगे
सवाल आख़िरी यही होगा
तुमको चुनना आता क्या?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *