• Wed. Feb 21st, 2024

सटायर हिन्दी

विद्रूपताओं का आईना

लोकतंत्र! अंतिम प्रणाम?

Byआज़ाद

Mar 1, 2023

 

हर दिन बातों से तमाम करते हो

सुना है कि तुम क़त्लेआम करते हो।

 

बन गये हो दानिशमंद अब इतने

सुई घुमा के सुबह को शाम करते हो।

 

देखी नहीं है चाँदनी कभी शायद

इसीलिए सूरज को सलाम करते हो।

 

परस्ती यूँ भी सस्ती नहीं वतन की

जितनी नुमाइश सरेआम करते हो।

 

मिट गया वज़ूद उसी दिन तुम्हारा

जब से तुम टोली में काम करते हो।

बेवकूफ़ी को साहस समझ बैठे

जाने कब ख़ुद को गुलाम करते हो।

 

उजड़ी बस्तियाँ, ख़ूँ, वहशतें, लाशें

देखें वसीयत किसके नाम करते हो।

 

तुम बस फ़ूट फ़ूट के रो दिया करो

फ़ालतू का काहे तामझाम करते हो।

 

उसका नाम जप जप कर दिन रात

ग़रीब का बस जीना हराम करते हो।

 

मिटा देते हो आख़िर उसी की हस्ती

जिसको भी झुक के प्रणाम करते हो।

 

@भूपेश पन्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *