• Wed. Jul 24th, 2024

सटायर हिन्दी

विद्रूपताओं का आईना

आरती बाबा हेटलर जी की

Byआज़ाद

Oct 6, 2019

जय जय हे हेटलर
जय जय हे हेटलर
तुमने हमको सिखाया
इंसानों से कैसे हेट कर
जय जय हे हेटलर!

वक़्त तुम्हारा आया
तुमने सबको फंसाया
विकास के आगे लेट कर
जय जय हे हेटलर!

तुम हिंसा के पुजारी
आरती तुमने उतारी
गोडसे की बहुत वेट कर
जय जय हे हेटलर!

हम तो तुम्हारे दासा
कौन है खून का प्यासा
समझ गये यही भेंट कर
जय जय हे हेटलर!

मंत्र तुमने ये झाड़ा
भाई भाई को फाड़ा
दूध को कइसे फेंट कर
जय जय हे हेटलर!

तुम हो यारों के यार
जैसे कोई हो ऐय्यार
रंगीन सियार बन कर
जय जय हे हेटलर!

तुम ही अपने दाता
कह रही भारत माता
संतानों के ग़म देख कर
जय जय हे हेटलर!

मर गया ये किसान
जूझ रहा वो जवान
तू तो थाली में छेद कर
जय जय हे हेटलर!

भगवा तुमने उछाला
स्वास्तिक बीच में डाला
मां बहन को दी खींच कर
जय जय हे हेटलर!

नारी से मन जो भर गया
पुरुष भी तुमसे डर गया
शोले का सिक्का भींच कर
जय जय हे हेटलर!

तुम द्वार हमारे आओ
अच्छे दिन दिखलाओ
माल पूरे घर का समेट कर
जय जय हे हेटलर!

हेटलर स्वामी की आरती
जो कोई नर गाता
जिंदगी, घर, बच्चों से
वो प्रेम न कर पाता
जय जय हेटकर दाता…

बोलो हेटलर बाबा की जय!

 

@भूपेश पन्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *