• Fri. Jun 9th, 2023

Constitution

  • Home
  • चल भगोड़े अब कर नाटक!

चल भगोड़े अब कर नाटक!

बॉस का चापलूस कर्मचारी भागते हुए ऑफिस में घुसा, “सर आज तो आपको मुझे 15 लाख का इनाम देना ही होगा तभी मैं मानूँगा आपकी 56 इंची छाती को।” “क्यों…

सवाल दर सवाल!

मुद्दा ये नहीं है कि तस्वीर दिखलाई किसनेआख़िर सूरत वतन की ऐसी बनाई किसने? जायज़ नहीं है कहना कितनों को भीख दीतू ये बता कि भीख माँगनी सिखाई किसने? दूध,…

तानाशाह का बिन्दुवार चरित्र (!) चित्रण

1. तानाशाह के पास न तो सेंस होता है और न ह्यूमर 2. तानाशाह व्यंग्य और उपहास में फ़र्क़ नहीं कर पाता 3. तानाशाह कायर, बेवकूफ़ और बेशरम होता है…

शाही ताना!

ये बहुत पुरानी बात है जब लगातार कई चुनाव भारी मतों से जीतने के बाद एक लोकतंत्र की सरकार ने देश के हित में तानाशाही लाने का फ़ैसला किया। स्वघोषित…

लोकतंत्र! अंतिम प्रणाम?

हर दिन बातों से तमाम करते हो सुना है कि तुम क़त्लेआम करते हो। बन गये हो दानिशमंद अब इतने सुई घुमा के सुबह को शाम करते हो। देखी नहीं…

सावधान!

कोई आधी रात के घोर अंधेरे में मेरे घर का दरवाज़ा ज़ोर ज़ोर से खटखटा रहा है। मुझे लगता है कि ये आपातकाल है! @भूपेश पन्त

यदा यदा हि मर्मस्य….

रोज़ कहते हैं हरम में जाने से पहलेमेरी वफ़ा का हर कोई तलबग़ार है। सुना है ये जुमला सरदार के बाद सेतेरी ज़म्हूरियत में बहुत असरदार है। नहीं बदलेगी ज़ेहनियत…

विकास का नाश!

फोटो साभार

नव गणतंत्र के सबक!

किसी गणतांत्रिक देश की राजनीति, आर्थिकी, समाज, तकनीक, न्याय और व्यवस्था में किसी भी तरह का बदलाव सरकारी तारीख़, समय और इजाज़त का मोहताज होता है। देश के इतिहास में…

जहाँगीर का घंटा !

तेरे हक़ मेंकुछबेहद मामूलीऔरमेरे हक़ मेंहर बड़ा फ़ैसला आना हैजबइंसाफ़ खुदसत्ता की तान परडोल रहा हैतोकिस कमबख़्त कोउसकाघंटा बजाना है। तुझेतो बसझटपट न्यायकीपड़ी हैउन्हें तो बाद मेंसालों तकचली बहसों औरअपराध…